5 ऐसे खिलाड़ी ने जो शामिल तो हुए एक गेंदबाज़ की हैसियत से लेकिन बने सफल बल्लेबाज़

Cricket एक ऐसा खेल है, जो हमेशा अनिश्चताओं के लिए पहचाना जाता है, जो भी इस खेल को ध्यान से देखते हैं, वह इसे बेहतर तरीके से समझ सकते हैं। आखिरी मिनट का खेल का पूरा पासा पलटने से लेकर एक विकेटकीपर भी गेंदबाज़ी की जिम्मेदारी निभाते हुए दिख सकता है, जो टीम को विकेट निकालकर दे सके। निचले क्रम में बल्लेबाज़ी करने वाला खिलाड़ी गेंद को मैदान से बाहर मारने की काबिलियत रखने के साथ एक पार्ट टाइम गेंदबाज़ एक मैच में हैट्रिक लेने के साथ 5 विकेट लेने का कारनामा भी सकता है।

एक बात जो अभी तक Cricket जगत ने काफी ध्यान से देखी है, वह किसी खिलाड़ी का करियर एक गेंदबाज़ के रूप में शुरू होने के बाद वह एक सफल बल्लेबाज़ बन गया। इन सभी खिलाड़ियों को अपनी स्किल की कमी के कारण दूसरी चीज़ो में काम करना पड़ा जिसके परिणाम स्वरूप उस खिलाड़ी ने विश्व Cricket में अपनी पहचान एक अलग तरीके से ही बनाई। हम आपको ऐसे 5 खिलाड़ियो के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्होंने अपना करियर एक गेंदबाज़ के रूप में शुरू किया लेकिन बाद में वह एक सफल बल्लेबाज़ बनकर उभरे।

#1 स्टीव स्मिथ| Steve Smithsteve smith

अंतरराष्ट्रीय Cricket में स्टीव स्मिथ की जर्नी अभी तक काफी उतार-चढाव भरी रही है, जबसे उन्होंने अपना करियर शुरू किया है। एक लेग स्पिनर के रूप में ऑस्ट्रेलियन टीम में जगह बनाने वाले स्मिथ ने खुद को पिछले कुछ सालो में टीम के नंबर 3 पर बल्लेबाज़ी करते हुए एक अलग ही मुकाम हासिल किया है। साल 2010 में ऑस्ट्रेलिया के लिए तीनों ही फार्मेट में अपना डेब्यू कर लिया था।

अपने शुरूआती करियर में स्टीव स्मिथ की तुलना शेन वार्न के साथ हो रही थी, वह एक ऐसे लेग स्पिनर थे, जो निचले क्रम में 7 या 8 वें नंबर पर बल्लेबाज़ी भी कर सकता था। साल 2013 में हुई एशेज़ सीरीज़ ने स्मिथ के करियर को पूरी तरह से पलटकर रख दिया। इस सीरीज़ में स्मिथ ने खुद को एक बल्लेबाज़ के रूप में स्थापित कर लिया। स्टीव का अजीबोगरीब तरीके से बल्लेबाज़ी करने की तकनीक विपक्षी टीमों के गेंदबाज़ो के लिए एक सिरदर्द की तरह साबित हुई।

स्मिथ ने अभी तक अपने टेस्ट करियर में 65 मैच खेले हैं, जिसमें 119 पारियों में इस खिलाड़ी ने 62.96 के शानदार औसत के साथ 6485 रन बनायें हैं, इसमें 25 शतक हैं, जिसमें 2 दोहरे शतक भी शामिल हैं। साल 2015 स्मिथ के करियर के लिए अभी तक काफी शानदार साबित रहा जब वह टेस्ट बल्लेबाज़ी रैंकिंग में पहले स्थान पर जा पहुंचे। एक बल्लेबाज़ के तौर पर स्मिथ की गिनती वर्तमान फैब फोर खिलाड़ियों में की जाती हैं, जिसमें विराट कोहली, जो रूट, केन विलियमसन शामिल हैं।

#2 कैमरून व्हाइट | Cameron White

स्टीव स्मिथ की तरह ही कैमरून व्हाइट ने भी अपने करियर की शुरूआत लेग स्पिनर के रूप में की थी, ब्रैड हॉग के अंतरराष्ट्रीय Cricket से संन्यास लेने के बाद व्हाइट को उनकी जगह पर शामिल किया गया। कैमरून व्हाइट ने अपना टेस्ट डेब्यू भारत के खिलाफ साल 2008 में किया था, जिसमें उन्होंने अपने पहला विकेट सचिन तेंदुलकर के रूप में हासिल किया।

साल 2009 के इंग्लैंड दौरे में कैमरून व्हाइट ने खुद को एक बल्लेबाज़ के तौर पर स्थापित करते हुए उस सीरीज़ में साउथैम्प्टन में हुए वनडे मैच में अपना पहला शतक लगा दिया, लगातार अच्छी बल्लेबाज़ी के कारण वह ऑस्ट्रेलियन टीम के महत्तवपूर्ण बल्लेबाज बन गए। माइकल क्लार्क के टी20 से संन्यास लेने के बाद व्हाइट को इस फार्मेट में टीम का कप्तान नियुक्त चुना गया था, लेकिन जल्द ही उन्हें जॉर्ज बैली के शानदार प्रदर्शन की वजह से टीम से बाहर कर दिया गया।

कैमरून ने अपने करियर में 91 वनडे मैच खेले जिसमें 33.97 के औसत से 2072 रन बनायें और इसमें 2 शतक भी शामिल हैं, वहीं गेंदबाज़ी में 12 विकेट ही हासिल कर सके। अपने पूरे करियर में व्हाइट को गेंदबाज़ी के लिए काफी कम ही प्रयोग में लिया गया।

#3 सनथ जयसूर्या | Sanath Jayasuriyasanath jayasuriya

श्रीलंका के लिए खेलने वाले बायें हाथ के बल्लेबाज़ सनथ जयसूर्या का नाम Cricket के महान खिलाड़ियों में गिना जाता है। जयसूर्या ने अपने पूरे करियर के दौरान एक आक्रामक बल्लेबाज़ के रूप में पहचाने जाते हैं, जो श्रीलंकन Cricket टीम के लिए काफी सफल भी रहे। जयसूर्या को टीम में एक बायें हाथ के स्पिनर के रूप में जगह मिली थी और अपने करियर के शुरूआती 5 साल में उन्हें एक गेंदबाज़ की हैसियत से खिलाया गया जो बल्ले से भी योगदान दे सकते थे।

अपने करियर के दूसरे पड़ाव में जयसूर्या एक मध्यक्रम के बल्लेबाज़ के रूप में खेलने लगे और जब उन्हें पारी की शुरूआत के लिए भेजने का फैसला लिया तो यह जयसूर्या के करियर का सबसे बड़ा पडाव साबित हुआ और सचिन तेंडुलकर के बाद वह वनडे में दूसरे ऐसे बल्लेबाज़ जिन्होंने 13000 रन बनाये।

आईसीसी वनडे विश्वकप 1996 में सनथ जयसूर्या को मोस्ट वैल्यूबल खिलाड़ी का खिताब दिया गया था। अपने वनडे करियर में जयसूर्या ने 445 वनडे मैच में 32.13 के औसत से 13340 रन बनायें जिसमें उनका स्ट्राइक रेट 91.22 का रहा था। वहीं गेंदबाज़ी में इस खिलाड़ी ने 323 वनडे विकेट हासिल किए।

#4 शोएब मलिक | Shoaib MalikShoaib Malik

37 साल के पाकिस्तान से आने वाले शोएब मलिक ने हाल में ही खत्म में हुए आईसीसी वनडे विश्वकप 2019 के बाद वनडे Cricket से संन्यास ले लिया था। 20 साल के अपने वनडे करियर के दौरान शोएब मलिक ने खुद को मध्यक्रम का एक शानदार बल्लेबाज़ साबित किया। लेकिन 17 साल की उम्र में जब शोएब मलिक में वेस्टइंडीज़ के खिलाफ जब अपना डेब्यू किया था, तो उन्हें एक ऑफ स्पिनर के रूप में शामिल किया गया था। मलिक का गेंदबाज़ी एक्शन सकलैन मुश्ताक की तरह था, जिस कारण वह दूसरा गेंद डाल सकते थे।

साल 2004 में मलिक को संदिग्ध एक्शन के कारण गेंदबाज़ी में बैन भी झेलना पड़ा, लेकिन टीम में उन्हें एक बल्लेबाज़ी की हैसियत से शामिल किया गया। न्यूज़ीलैंड के खिलाफ मलिक ने अपना टेस्ट शतक एक ओपनिंग खिलाड़ी के रूप में बनाया अपने पूरे करियर में मलिक ने एक ओपनर, नंबर 3 और मध्यक्रम के बल्लेबाज़ के रूप में खुद को साबित किया।

शोएब मलिक ने 287 वनड मैचो में 34.56 के औसत से 7534 रन बनायें इसके अलावा 158 विकेट भी हासिल किए। मलिक एक गेंदबाज़ से कहीं बेहतर एक बल्लेबाज़ साबित हुए और अपने करियर के अंत में भी वह टीम के लिए उपयोगी साबित हुए।

#5 शाहिद आफरीदी| Shahid Afridishahid afridi

शाहिद आफरीदी का करियर बाकी खिलाड़ियों से कुछ अलग रहा जिनके बारे में हमने आपको पहले बताया। पाकिस्तान टीम में आफरीदी को 16 साल की उम्र में एक लेग स्पिनर के रूप में शामिल किया गया था। अपने करियर के दूसरे वनडे मैच में आफरीदी ने सिर्फ 37 गेंदो में ही श्रीलंका के खिलाफ वनडे Cricket में सबसे तेज़ शतक लगा दिया था, जिसके बाद साल 2014 में उनके इस रिकॉर्ड को कोरी एंडरसन ने 36 गेंदो में शतक लगाकर इस रिकॉर्ड को तोड़ा।

आफरीदी का बल्लेबाज़ी करने का तरीका काफी अलग था, वह पहली ही गेंद से गेंदबाज़ो के खिलाफ जाते हैं, चाहे हालात कैसे भी हो, जिस कारण उनके टैम्परामेंट को लेकर भी काफी आलोचना का शिकार होना पड़ा। आफरीदी को एक शानदार ऑलराउंडर खिलाड़ी के रूप में जरूर पहचान मिली, जिसमें उन्होंने अपने करियर की सबसे शानदार गेंदबाज़ी वेस्टइंडीज़ के खिलाफ करते हुए सिर्फ 12 रन देकर 7 विकेट हासिल किए।

विश्वCricket में अपनी काबिलियत के कारण आफरीदी को काफी पहचान मिली और वह सबसे मनोरंजक खिलाड़ी के रूप में समझे गए। आफरीदी ने 398 वनडे मैच में 117.01 के स्ट्राइक रेट के साथ 8064 रन जिसमें सबसे शानदार बात यह कि आफरीदी ने 5022 रन बाउंड्री से बनाये हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *