भारतीय महिला रेसलिंग खिलाड़ी साक्षी मलिक के बारे में जानिए सभी जानकारी

Sakshi Malik

भारतीय महिला रेसलिंग खिलाड़ी साक्षी मलिक जो हरियाणा के रोहतक डिस्ट्रिक से आती हैं। साक्षी मलिक पहली भारतीय रेसलर खिलाड़ी हैं, जिन्होंने ओलंपिक में पदक जीता है, इसके अलावा साक्षी ने साल 2014 में ग्लास्गो में हुए कॉमनवेल्थ गेम्स में भी सिल्वर पदक को अपने नाम पर किया था।

शुरूआती जीवन

रोहतक के विकास पब्लिक स्कूल और डीएवी सेंचुरी पब्लिक स्कूल से साक्षी मलिक ने स्कूल की पढ़ाई पूरी की है। साक्षी ने 12 साल की उम्र से रेसलिंग की ट्रेनिंग लेना शुरू कर दिया था। मलिक ने ईश्वर दहिया के अंडर में रोहतक में स्थित छोटू राम स्टेडियम में मौजूद अखाड़े में ट्रेनिंग ली। वहीं सा्क्षी ने फिजिकल एजुकेशन में अपना पोस्ट ग्रेजुएशन रोहतक की महर्षी दयानंद यूनवर्सिटी से पूरा किया।

निजी जीवन

Sakshi Malik

3 सितम्बर 1992 को हरियाणा के रोहतक डिस्ट्रिक के मोखरा गांव में साक्षी मलिक का जन्म हुआ था। साक्षी के पिता का नाम सुखबीर सिंह है, जो दिल्ली परिवहन विभाग में एक बस कंडक्टर की नौकरी करते हैं, तो वहीं मां सुदेश मलिक एक लोकल हेल्थ क्लिनिक में सुपरवाइजर हैं। साक्षी मलिक के सबसे बड़ा प्रेरणास्त्रोत उनके दादा जी बदलू राम रहे जो एक रेसलर थे। मौजूदा समय में साक्षी मलिक भारतीय रेलवे में दिल्ली डिवीजन में नौकरी कर रही हैं।

रियो ओलंपिक में कांस्य पदक जीतने के 2 महिने के बाद साक्षी मलिक ने रेसलर खिलाड़ी सत्यव्रत कादियान से शादी कर ली थी। सत्यव्रत भी सुशील कुमार की तरह एक शानदार रेसलिंग खिलाड़ी हैं और साक्षी की शादी में हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपिंदर सिंह हुड्डा और वरिष्ठ भारतीय नेशनल लोकदल के नेता अभय सिंह चौटाला भी शामिल हुए थे।

ओलंपिक में कांस्य पदक जीतने के बाद साक्षी मलिक का प्रमोशन सीनियर क्लर्क के पद से राजपत्रित अधिकारी रैंक पर भारतीय रेलवे विभाग में कर दिया गया था।

प्रोफेशनल जीवन

Sakshi Malik

साल 2010 में हुई जूनियर वर्ल्ड चैंपियनशिप में 58 किलोग्राम फ्रीस्टाइल इवेंट में साक्षी मलिक ने कांस्य पदक जीता। इसके बाद साल 2014 में मलिक ने डेव स्कल्टज इंटरनेशनल टूर्नामेंट में 60 किलोग्राम कैटेगरी में गोल्ड मेडल जीता। वहीं इसके बाद साल 2015 में दोहा में हुई एशियन चैंपियनशिप में 60 किलोग्राम कैटेगरी में कांस्य पदक जीता।

मलिक ने साल 2016 के रियो ओलंपिक में 58 किलोग्राम कैटेगरी में अपनी जगह बनायी, जिसके बाद ओलंपिक में किर्गिस्तान की खिलाड़ी के खिलाफ 8-5 की जीत हासिल करके ओलंपिक में कांस्य पदक अपने नाम पर किया। साक्षी ने प्रो रेसलिंग लीग के दूसरे एडीशन में कलर्स दिल्ली सुल्तान की तरफ से हिस्सा लिया।

सम्मान

  • साक्षी मलिक को 2.5 करोड़ का नकद पुरस्कार मिल चुका है।
  • भारतीय रेलवे ने साक्षी को 60 लाख रूपये नकद पुरस्कार दिया।
  • उत्तर प्रदेश राज्य सरकार ने साक्षी मलिक को रानी लक्ष्मीबाई अवार्ड देने के साथ 3.11 लाख रूपये का नकद पुरस्कार दिया।
  • बॉलीवुड अभिनेता सलमान खान ने साक्षी के ओलंपिक में क्वालीफाइ करने के बाद उन्हें 1.01 लाख रूपये का नकद पुरस्कार दिया।

अचीवमेंट

  • ग्लास्गो में हुए साल 2014 के कॉमनवेल्थ गेम्स में 58 किलोग्राम कैटेगरी में सिल्वर पदक जीता।
  • गोल्ड कोस्ट में हुए साल 2018 के कॉमनवेल्थ गेम्स में 58 किलोग्राम कैटेगरी में कांस्य पदक जीता।
  • एशियन चैंपियनशिप साल 2015 में 60 किलोग्राम कैटेगरी में कांस्य पदक जीता।
  • साल 2017 में हुई एशियन चैंपियनशिप में 60 किलोग्राम कैटेगरी में सिल्वर पदक जीता।
  • 62 किलोग्राम कैटेगरी में साल 2018 में हुई एशियन चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीता।
  • साल 2019 में हुई एशियन चैंपियनशिप में 62 किलोग्राम कैटेगरी में कांस्य पदक जीता।
  • ग्लास्गो में हुए साल 2014 के कॉमनवेल्थ गेम्स में 63 किलोग्राम कैटेगरी में कांस्य पदक जीता।
  • साल 2018 में हुए कॉमनवेल्थ गेम्स 62 किलोग्राम कैटेगरी में गोल्ड मेडल जीता।
  • वर्ल्ड जूनियर चैंपियनशिप साल 2010 में 59 किलोग्राम कैटेगरी में कांस्य पदक जीता।
  • साल 2009 में हुई एशियन जूनियर चैंपियनशिप में 59 किलोग्राम कैटेगरी में सिल्वर पदक जीता।
  • साल 2012 में हुई एशियन जूनियर चैंपियनशिप में 63 किलोग्राम कैटेगरी में गोल्ड मेडल जीता।

निजी जानकारी

  • पूरा नाम – साक्षी मलिक
  • उम्र – 26 साल (साल 2019 तक)
  • जन्म – 3 सितम्बर 1992
  • होमटाउन – रोहतक, हरियाणा, भारत
  • राशी – कन्या
  • रिलीजन – हिंदू

शारीरिक माप

  • लम्बाई – 5 फुट 4 इंच
  • वजन – 58 किलोग्राम
  • आंखो कां रंग – ब्लैक
  • बालों का रंग – ब्लैक

विवाद

अपने अभी तक के रेसलिंग करियर में साक्षी मलिक किसी भी तरह के विवाद में पड़ते हुए नहीं देखी गयी हैं।

नेटवर्थ

Sakshi Malik

इस महिला रेसलिंग खिलाड़ी की नेटवर्थ को लेकर बात करी जाए तो वह 1 मिलियन डॉलर के आसपास होने का अनुमान लगाया गया है। ओलंपिक में पदक जीतने के बाद सक्षी कई जगहों से नकद पुरस्कार मिले थे। इसके अलावा सचिन तेंदुलकर ने भी उन्हें बीएमडब्लू कार गिफ्ट की थी।

सोशल मीडिया प्रोफाइल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *