IPL फ्रेचाइजी विदेशी खिलाड़ियों को कोरोना से बचाने के कर सकती है उनको नजरबंद

हिन्दुस्तान टाइम्स कि माने तो IPL फ्रेचाइजी अपने विदेशी खिलाडीयो को कोरोना से बचा के रखने को लिए 14 दिनो तक नजरबंद रखना चाहती है,लेकिन सरकार 31 मार्च तक देश से बाहर हर तरह के य़ात्रा पर रोक लगा ऱखा है। जबकि IPL का 13वां संस्करण शुरुआत होने के चरम सिमा पर है।इस माह के अंत मे IPL का 13वां संस्करण होना था।कोरोना के प्रकोप ने हर एक खेलो पर रोक लगा चुका है और IPL का 13वां संस्करण अब 15 अप्रैल से खेला जाएगा।कोरोना के कारण IPL से पहले होने वाले भारत और साउथ अफ्रिका के बिच होने वाले मैचो को भी रद्द कर दिया गया था और दिन को अंत तक पाकिस्तान कि टी-20 लीग भी रद्द कर दिया गया है,जबकि PSL के सेमिफाइनल और फाइनल मैच हि बचे थे। कोरोना वायरस ने पहले लोगो को प्रभावित उसके बाद फिर खेलो को।

vivo ipl 2020

हिन्दुस्तान टाउम्स से बात करते हुए- IPL फ्रेंचाइजी के एक अधिकारी ने उनके द्वारा तैयार की गई प्रक्रिया पर प्रकाश डाला, यह कहते हुए कि विदेशी खिलाड़ियों को देश में भेजे जाने के बाद वास्तव में अलग हो जाएगा।                                

कुछ देशों से यात्रा के लिए 14-दिवसीय संगरोध के लिए नए सलाहकार कॉल करते हैं और यदि रुख एक ही मार्च 31 के बाद का रहता है, तो यह एक मुद्दा नहीं होना चाहिए। अगर हमें सरकार से मंजूरी मिल जाती है और वीजा जारी कर दिया जाता है, तो खिलाड़ियों को शांत करना एक बड़ी बात नहीं होगी।)अंत में, यह भी पता चला कि यह देखना बाकी है कि भारत सरकार ने वीजा देने के समय क्या फैसला किया था, जिसके बिना उन्हें IPL में भाग लेने के लिए देश में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी जाएगी। 

ऐसे परिदृश्य में, हम उन्हें अप्रैल के पहले सप्ताह में देश में उड़ान भर सकते हैं और 14-दिवसीय संगरोध की प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं। लेकिन सबसे पहले, विदेशी खिलाड़ियों को वीजा दिया जाना चाहिए और इसीलिए हमें 31 मार्च तक इंतजार करने की जरूरत है कि सरकार आगे क्या करने का फैसला करती है।

देश में सभी खेल आयोजनों को अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दिया गया है और जबकि IPL अगले महीने से शुरू होने वाला है, ऐसी धारणा है कि पूरा टूर्नामेंट बंद दरवाजों के पीछे खेला जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *